Skip to main content

NCERT SOLUTION SCIENCE FOR SUPER TET

NCERT SOLUTIONS SCIENCE FOR SUPER TET


NCERT SCIENCE CHAPTER :SOUND (ध्वनि)



Welcome to Super Tet Exam preparation point. Here we're providing Most Important Science Chapter for Super TET
Exam. NCERT SOLUTIONS is best for better understanding of Science for Super Tet Exam. Here you can read and Download Pdf of NCERT SOLUTIONS SCIENCE CHAPTER- SOUND (ध्वनि).

NCERT SCIENCE IN HINDI for SUPER TET EXAM.



NCERT SCIENCE IN HINDI MEDIUM

पाठगत हल प्रश्न 

NCERT पाठ्यपुस्तक -

NCERT SCIENCE IN HINDI MEDIUM


प्र० . किसी माध्यम में ध्वनि द्वारा उत्पन्न विक्षोभ आपके कानों तक कैसे पहुँचता है?

उत्तर- जब कोई वस्तु कंपन करती है तो अपने चारों ओर
माध्यम के कणों को भी कंपमान कर देती है। ये कण कंपमान वस्तु से स्वयं चलकर हमारे कानों तक नहीं पहुँचते हैं बल्कि कंपमान वस्तु के सबसे नजदीक वाले माध्यम के कण अपनी संतुलित अवस्था से विस्थापित हो जाते हैं जो अपने निकटवर्ती कण पर बल लगाकर उसे भी विस्थापित कर देते हैं तथा प्रारंभिक कण वापस अपनी मूल अवस्था में लौट आते हैं। माध्यम में यह प्रक्रिया तब तक चलती रहती है जब तक कि ध्वनि हमारे कानों तक नहीं पहुँच जाती है। इस तरह माध्यम में ध्वनि द्वारा उत्पन्न विक्षोभ (माध्यम के कण नहीं) माध्यम से होता हुआ संचरित होता है



प्र० . आपके विद्यालय की घंटी, ध्वनि कैसे उत्पन्न करती है?

उत्तर- हमारे विद्यालय की घंटी मिश्रधातु से बनी होती है। जिसे हथौड़े की चोट से कंपमान किया जाता है। कंपन के कारण हवा में विक्षोभ उत्पन्न होता है। तरंग एक विक्षोभ है जो हवा में आगे-पीछे कंपन करती हुई हमारे कानों तक पहुँच जाती है। माध्यम के कण केवल दोलन करते हैं और विक्षोभ आगे बढ़ जाता है।

SUPER TET EXAM SCIENCE


प्र० . ध्वनि तरंगों को यांत्रिक तरंगें क्यों कहते हैं?

उत्तर- ध्वनि तरंगों के गमन के लिए किसी माध्यम; जैसे-वायु, जल स्टील आदि की आवश्यकता होती है। यह निर्वात से होकर नहीं चल सकती। ध्वनि तरंगें तभी संचरित हो सकती हैं जब उसके माध्यम के कण आगे-पीछे कंपन करें और विक्षोभ आगे बढ़ जाए।



प्र० . मान लीजिए कि आप अपने मित्र के साथ चंद्रमा पर गए हुए हैं। क्या आप अपने मित्र द्वारा उत्पन्न ध्वनि को सुन पाएँगे?

उत्तर- नहीं, क्योंकि ध्वनि तरंग के संचरण के लिए माध्यम की आवश्यकता होती है जबकि चंद्रमा पर वायुमंडल नहीं होता है।
अतः निर्वात में ध्वनि संचरित नहीं हो सकती।

SCIENCE FOR SUPER TET EXAM




प्र० . तरंग का कौन-सा गुण निम्नलिखित को निर्धारित करता
(a) प्रबलता,
(b) तारत्व।
उत्तर-
(a) प्रबलता (Loudness): ध्वनि की प्रबलता कंपन का आयाम निर्धारित करती है। जितना अधिक आयाम होगा, ध्वनि उतनी ही प्रबल होगी।

(b) तारत्व (Pitch): ध्वनि का तारत्व कंपन की आवृत्ति निर्धारित करता है। जितना अधिक आवृत्ति होगी, उतना अधिक तारत्व होगा।

प्र० . अनुमान लगाइए कि निम्न में से किस ध्वनि का तारत्व अधिक है?
(a) गिटार, (b) कार का हार्न।
उत्तर- (b) कार का हार्न।

SCIENCE FOR SUPER TET EXAM





प्र० . किसी ध्वनि तरंग की तरंगदैर्घ्य, आवृत्ति, आवर्त काल तथा आयाम से क्या अभिप्राय है?

उत्तर- तरंगदैर्घ्य (Wavelength): दो क्रमागत संपीडनों (C) या क्रमागत विरलनों (R) के बीच की दूरी तरंगदैर्ध्य कहलाती है। तरंगदैर्घ्य को λ (ग्रीक अक्षर लैम्डा) से निरूपित किया जाता है। इसका SI मात्रक मीटर (m) है।

विकल्पतः एक पूर्ण दोलन (Oscillation) में कोई तरंग जितनी दूरी तय करती है, उसे तरंगदैर्ध्य कहते
आवृत्ति (Frequency): एकांक समय में होने वाले दोलनों की कुल संख्या को आवृत्ति कहते हैं। इसे v (ग्रीक अक्षर, न्यू) से प्रदर्शित (निरूपित) किया जाता है। आवृत्ति का SI मात्रक हर्ट्ज (hertz) है। जिसे प्रतीक Hz से व्यक्त करते हैं।

आवर्त काल (Time period): तरंग द्वारा माध्यम के घनत्व के एक संपूर्ण दोलन में लिए गए समय को आवर्त काल (T) कहते हैं। दूसरे शब्दों में दो क्रमागत संपीडनों या दो क्रमागत विरलनों को किसी निश्चित बिंदु से गुजरने में लगे समय को तरंग का आवर्त काल कहते हैं। इसका SI मात्रक सेकंड (S) है।

आयाम (Amplitude): किसी तरंग के संचरण में माध्यम के कणों का मूल स्थिति के दोनों ओर अधिकतम विस्थापन (या विक्षोभ) आयाम कहलाता है। इसे साधारणतः ‘A’ द्वारा निरूपित किया जाता है। इसका मात्रक दाब या घनत्व का मात्रक होता है। ध्वनि की प्रबलता अथवा मृदुता मूलत: इसके आयाम से ज्ञात की जाती है।



प्र० . किसी ध्वनि तरंग की तरंगदैर्घ्य तथा आवृत्ति उसके वेग से किस प्रकार संबंधित है?

उत्तर- तरंग का वेग = आवृत्ति x तरंगदैर्घ्य υ = v x λ.

प्र० . ध्वनि क्या है और यह कैसे उत्पन्न होती है?
उत्तर- ध्वनि ऊर्जा का एक रूप है जिसके कारण हम सुन पाते हैं। ध्वनि तभी उत्पन्न होती है जब कोई वस्तु कंपन (Vibrate) करती है; जैसेः सितार के तार का कंपन करना।

SCIENCE FOR SUPER TET EXAM





प्र० . ध्वनि तरंगों की प्रकृति अनुदैर्ध्य क्यों है?
उत्तर- जब माध्यम के कणों का विस्थापन तरंग संचरण की दिशा के समांतर हो तो उसे अनुदैर्ध्य तरंग कहते हैं। ध्वनि तरंग संपीडन (C) और विरलन (R) के रूप में संचरित होती है तथा माध्यम (वायु) के कण आगे-पीछे तरंग के संचरण की समांतर दिशा में गति करते हैं।
अतः ध्वनि तरंगों को अनुदैर्घ्य तरंग कहते हैं।

प्र० . ध्वनि का कौन-सा अभिलक्षण किसी अन्य अंधेरे कमरे में बैठे आपके मित्र की आवाज पहचानने में आपकी सहायता करता है?
उत्तर- ध्वनि की गुणता (Quality or timber)

प्र० . तड़ित की चमक तथा गर्जन साथ-साथ उत्पन्न होते हैं। लेकिन चमक दिखाई देने के कुछ सेकंड पश्चात् गर्जन सुनाई देती है। ऐसा क्यों होता है?

उत्तर- ऐसा प्रकाश की काफी उच्च चाल के कारण होता है।
प्रकाश को चाल (C = 3 x 108 m/s) है जबकि ध्वनि का चाल 346 m/s (25°C पर) होता है।
स्पष्टतः ध्वनि को आकाश से धरती तक आने में कुछ समय लग जाता है परंतु प्रकाश लगभग तुरंत दिखाई देती है।

NCERT SCIENCE FOR SUPER TET EXAM

प्र० . ध्वनि का एक स्रोत किसी परावर्तक पृष्ठ के सामने रखने पर उसके द्वारा प्रदत्त ध्वनि तरंग की प्रतिध्वनि सुनाई देती है। यदि स्रोत तथा परावर्तक शीघ्र की दूरी स्थिर रहे तो किस दिन प्रतिध्वनि अधिक शीघ्र सुनाई देगी|
(i) जिस दिन (ताप) अधिक हो?
(ii) जिस दिन (ताप) कम हो?

NCERT SCIENCE IN HINDI MEDIUM





उत्तर- अधिक तापमान वाले दिन प्रतिध्वनि शीघ्र सुनाई देगी।
कारणः प्रतिध्वनि का समय t = \frac { 2d }{ \nu }, d= परावर्तक पृष्ठ की स्रोत से दूरी
चूँकि परावर्तक पृष्ठ की दूरी (d) स्थिर है इसलिए प्रतिध्वनि का समय ध्वनि के चाल का व्युत्क्रमानुपाती होगा। ताप में वृद्धि होने पर उस माध्यम में ध्वनि की चाल भी बढ़ती है।
अतः अधिक ताप वाले दिन ध्वनि की चाल अधिक होगी और प्रतिध्वनि शीघ्र सुनाई देगी।


NCERT SOLUTIONS SCIENCE IN HINDI MEDIUM

प्र० . ध्वनि तरंगों के परावर्तन के दो व्यावहारिक उपयोग लीखिए।
उत्तर-
(i) मेगाफोन या लाउडस्पीकर, हार्न तथा शहनाई जैसे वाद्य यंत्रः ये सभी इस प्रकार बनाए जाते हैं कि ध्वनि सभी दिशाओं में फैले बिना केवल एक विशेष दिशा में ही जाती है। यह स्रोत से उत्पन्न होने वाली ध्वनि तरंगों को बार-बार परावर्तित करके श्रोताओं की ओर आगे की दिशा में भेज देता है।

(ii) स्टेथोस्कोप: में रोगी के हृदय की धड़कन की ध्वनि बार-बार परावर्तन के कारण डॉक्टर के कानों तक पहुँचती है।


NCERT SCIENCE FOR CTET EXAM
NCERT SCIENCE FOR KVS EXAM

प्र० . अनुरणन क्या है? इसे कैसे कम किया जा सकता है?
उत्तर- किसी बड़े हॉल में उत्पन्न होने वाली ध्वनि दीवारों से बारंबार परावर्तन के कारण काफी समय तक बनी रहती है। यह बारंबार परावर्तन, जिसके कारण ध्वनि का स्थायित्व होता है, अनुरणन (Reverberation) कहलाता है। यह अवांछनीय होता है क्योंकि अत्यधिक अनुरणन के कारण स्पष्ट सुनाई नहीं देता हैं अनुरणन कम करने के निम्न उपाय हैं:

भवन की छतों तथा दीवारों पर ध्वनि अवशोषक पदार्थों जैसे संपीडित फाइबर बोर्ड, खुरदरे प्लास्टर अथवा पर्दै लगाते हैं।
सीटों के पदार्थों का चुनाव इनके ध्वनि अवशोषक गुणों के आधार पर करना।

NCERT SCIENCE FOR KVS EXAM

प्र० . ध्वनि की प्रबलता से क्या अभिप्राय है? यह किन-किन कारकों पर निर्भर करती है?
उत्तर- प्रबलता ध्वनि के लिए कानों की संवेदनशीलता की माप है जिसके कारण मृदु ध्वनि (Soft sound) तथा प्रबल ध्वनि (Loud sound) में अंतर कर सके। ध्वनि की प्रबलता निम्नलिखित पर निर्भर करती है।

ध्वनि के दोलन आयाम (Amplitude of vibration of sound)
कानों की संवेदनशीलता (Sensitivity of ears)


NCERT SCIENCE FOR CTET EXAM 2020


प्र० . चमगादड़ अपना शिकार पकड़ने के लिए पराध्वनि का उपयोग किस प्रकार करता है?
उत्तर- चमगादड़ उड़ते समय पराध्वनि तरंगे उत्सर्जित (Emmits) करता है तथा परावर्तन के बाद इनका संसूचन (detect) करता है चमगादड़ द्वारा उत्पन्न उच्च तारत्व के पराध्वनि स्पंद अवरोधों या कीटों से परावर्तित होकर चमगादड़ के कानों तक पहुँचता है। इस तरह चमगादड़ को परावर्तित स्पंदों की प्रकृति से चमगादड़ को पता चलता है कि अवरोध या कीट कहाँ पर है और यह किस प्रकार का है। चमगादड़ द्वारा पराध्वनि उत्सर्जित होती है तथा अवरोध या कीटों द्वारा परावर्तित होती है।

IMPORTANT SCIENCE QUESTIONS FOR SUPER TET EXAM


प्र० . वस्तुओं को साफ करने के लिए पराध्वनि का उपयोग कैसे करते हैं?
उत्तर- पराध्वनि का उपयोग उन भागों को साफ करने में करते हैं जिन तक पहुँचना कठिन होता है; जैसेः सर्पिलाकार नली, विषम आकार के पुर्जे, इलेक्ट्रॉनिक अवयव आदि। वस्तुओं को साफ करने वाले मार्जन विलयन में पराध्वनि तरंगें भेजी जाती हैं। उच्च आवृत्ति होने के कारण धूल, चिकनाई, गंदगी के कण अलग होकर नीचे गिर जाते हैं। इस प्रकार वस्तु पूर्णतया साफ हो जाती है।

NCERT SCIENCE FOR SUPER TET EXAM IN HINDI MEDIUM




ncert class 10 science solutions pdf in hindi
ncert social science book class 10 in hindi pdf
ncert books in hindi
ncert solutions for class 10 science hindi medium
ncert science book class 10 solutions pdf free download
ncert science book class 9 in hindi pdf download
ncert class 10 science book pdf
ncert science book class 9 pdf download


Comments

Popular posts from this blog

SUPERTET EXAM : CDP IMPORTANT QUESTIONS

SUPERTET EXAM CDP IMPORTANT QUESTIONS

बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र के महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर
Home




SUPERTET EXAM CDP IMPORTANT QUESTIONS


प्रश्‍न 1- डिसलेक्सिया सम्बन्धित है।  उत्‍तर - पढने सम्बन्धित विकार से । 
प्रश्‍न 2- श्यामपट्ट को शिक्षण साधन सामग्री के किस समूह मे अन्तर्मुक्त किया जा सकता है।  उत्‍तर - दृश्य साधन में । 
प्रश्‍न 3- व्‍यक्तित्‍व एवं बुद्धि में वंशानुक्रम की ...................... होती है।  उत्‍तर - नाममात्र की भूमिका । 
प्रश्‍न 4- श्यामपट्ट पर लिखते समय सबसे महत्वंपूर्ण क्या है।  उत्‍तर - अच्छी लिखावट । 
प्रश्‍न 5- बुद्धि का तरल मोजेक मॉडल किसने दिया था ।  उत्‍तर - कैटल ने ।
NCERT SCIENCE FOR SUPERTET : CLICK HERE


6- बच्चों के बौद्धिक विकास की चार विशिष्ट। अवस्थाओं की पहचान किस विद्वान द्वारा की गई ।  उत्‍तर - जीन पियाजे द्वारा । 
प्रश्‍न 7- डिस्कैलकुलि‍या का संबंध है।  उत्‍तर - आंकिक अक्षमता से । 
प्रश्‍न 8- शिक्षा मे समावेशन का क्या अ‍र्थ है।   उत्‍तर - सभी विद्यार्थियों को शिक्षा की मुख्य‍ धारा प्रणाली में स्वीकारना । 
प्रश्‍न 9- आर. वी. कैटल की तरल बुद्धि तुल्य् है।  उत्‍तर - वंशानुगत…

SUPERTET : CHILD DEVELOPMENT AND PEDAGOGY IMPORTANT QUESTIONS IN HINDI

CTET 2020: IMPORTANT CDP QUESTIONS in HINDI बालविकास अन्य महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र
● मनोविज्ञान के अंतर्गत किस विचार को "प्रथम बल" की संज्ञा दी जाती है? (a) मनोवैज्ञानिक विश्लेषण (b) संज्ञानात्मकता (C) कार्यवादी (d) मानव पंरकता
उत्तर- (a) 
व्याख्या : मनोवैज्ञानिक विश्लेषण को मनोविज्ञान में प्रथम बल के नाम से जाना जाता है।
● बच्चा माँ का दूध पीकर क्या प्राप्त करता है? (a) अपनी क्षुधा शान्त करता है। (b) पौष्टिक आहार एवं निरोगता प्राप्त करता है। (c) प्यार प्राप्त करता है। (d) नींद और स्वास्थ्य प्राप्त करता है।
उत्तर- (b)
व्याख्या : माँ का दूध बच्चे के लिए सबसे अधिक पौष्टिक आहार होता है जो निरोगता देने वाला तथा माँ के हृदय का स्पंदन देता है अतः विकल्प (b) समुचित है।
● शारीरिक विकास एवं मानसिक विकास दोनों अन्योन्याश्रित होते हैं। क्योंकि- (a) शारीरिक विकास का मानसिक विकास से कोई सम्बन्ध नहीं है। (b) वय के अनुसार शारीरिक वृद्धि होती है पर मानसिक विकास प्रशिक्षण से मिलता है। (c) दोनों अलग-अलग प्रक्रिया है। (d) शारीरिक अभिवृद्धि के साथ बच्चे का मस्तिष्क भी बढ़ता है अतः उसमें वि…

IMPORTANT CDP QUESTIONS FOR CTET 2020

Important CDP Questions for CTET 2020CDP Questions for CTET,KVS,UPTET AND SUPER TET.

Welcome to SUPER TET EXAM PREPARATION POINT. Here we will discuss about Most Important CDP Questions for CTET, UPTET,KVS and SUPER TET Exams.Child Development and Pedagogy plays very crucial role in CTET and other TET Examinations that's why we've choosen some most of the times asked questions in CTET. We hope that this content will surely help you.
Child Development and Pedagogy for CTET 2020.Child Development And Pedagogy for Super TET .HOME




बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर








Important CDP QUESTIONS FOR CTET and SUPER TET EXAMNCERT SCIENCE FOR SUPERTET EXAM : CLICK HERE LATEST CURRENT AFFAIRS FOR SUPER TET EXAM बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर : CLICK HERE Join Our Telegram Channel For Regular Updates: CLICK HERE supertet.co.in