Skip to main content

Child Development and Pedagogy - बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र

Child Development and Pedagogy for UPTET, SUPERTET, KVS, REET
बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र
प्रमुख सिद्धान्त
1. प्रयत्न एवं भूल का सिद्धान्त

अन्य नाम:- उद्दीपन अनुक्रिया सिद्धान्त, अधिगम का बंध सिद्धान्त, एसआर थ्योरी, संबंधवादी, व्यवहारवादी

प्रवर्तक:- एडवर्ड ली थार्नडाइक, अमेरिका
बिल्ली पर प्रयोग

यह सिद्धान्त अभ्यास द्वारा सीखने पर बल देता है। यह गणित और विज्ञान के लिए उपयोगी सिद्धान्त है। इसमें त्रुटियों का निराकरण पर बल दिया जाता है।

2. अनुकूलित अनुक्रिया सिद्धान्त

अन्य नाम:- प्राचीन अनुबंध का सिद्धान्त, शास्त्रीय अनुबंध का सिद्धान्त, संबंद्ध प्रतिक्रिया का सिद्धान्त, कंडीशनल रिस्पोंस थ्योरी

प्रवर्तक:- इवान पैट्रोविच, रूस
कुत्ता पर प्रयोग

यह सिद्धान्त कहता है कि आदतों का निर्माण कृत्रिम उद्दीपकों से संबंद्ध प्रतिक्रिया द्वारा होता है। इसी सिद्धान्त से सम्बद्ध प्रतिवर्त (सहज) विधि का जन्म हुआ। यह सिद्धांत भाषा विकास, मनोवृतियों का निर्माण, बुरी आदतों से छुटकारा पाना, सुलेख, अक्षर विन्यास जैसे विषयों में उपयोगी है। इस सिद्धांत के तहत छोटे बच्चों को वस्तुएं दिखाकर शब्दों का ज्ञान कराया जाता है।

3. अंतदृष्टि या सूझ का सिद्धान्त

अन्य नाम:- गेस्टाल्ट सिद्धान्त, संबंधवादी/व्यवहारवादी

प्रवर्तक:- वर्दिमिर, कोफ्का और कोहलर
वनमानुष सुल्तान चिंपांजी पर प्रयोग

यह सिद्धांत समस्या का हल स्वयं को ही खोजने के लिए प्रेरित करता है।



4 .क्रिया प्रसूत अनुबंध का सिद्धांत
 
अन्य नाम:- सक्रिय अनुबंध का सिद्धान्त, नैमित्तिक अनुबंध, संबंधवादी /व्यवहार वादी

प्रवर्तक:- ब्यूरहस फ्रेडरिक स्किनर
कबूतर, चूहा पर प्रयोग

यह सिद्धांत कहता है कि किसी को पुनर्बलन देकर अच्छे कार्य के लिए प्रेरित किया जा सकता है। यहां सही कार्य के लिए सकारात्मक और गलत कार्य के लिए नकारात्मक पुनर्बलन दिए जाने की बात कही गई है। पुनर्बलन का अर्थ होता है प्रेरक। यह पुरस्कार भी हो सकता है ओर दंड भी।


5.  प्रबलन का सिद्धान्त

अन्य नाम:- न्यूनतम आवश्यकता का सिद्धान्त, विधिक सिद्धान्त, संबंधवादी/व्यवहारवादी

प्रवर्तक:- सीएलहल

चूहा पर प्रयोग

इस सिद्धांत में व्यक्तिगत शिक्षा पर बल दिया गया है। सिद्धांत कहता है कि शिक्षक को विषयवस्तु तथा अधिगम को दोहराने पर बल देना चाहिए। इससे बालक की आदतों को बेहतर बनाया जा सकता है।



6. अनुकरण द्वारा अधिगम

प्रवर्तक:- हेगरटी

यह सिद्धांत कहता है कि अधिगम की प्रक्रिया अनुकरण द्वारा भी पूर्ण की जा सकती है। बच्चा जैसा देखता है वैसा ही करने का प्रयास करता है।


7. अधिगम का प्राकृतिक दशा सिद्धान्त

अन्य नाम:- क्षेत्र सिद्धान्त, तलरूप सिद्धान्त

प्रवर्तक:- कुर्टलेविन

यह सिद्धांत कहता है कि शिक्षकों द्वारा विद्यार्थियों को उनकी योग्यता और शक्ति के अनुसार उपयुक्त मनोवैज्ञानिक वातावरण उपलब्ध कराना चाहिए। साथ ही प्राप्त उद्देश्यों को प्रभावी तरीके से निर्देशित किया जाना चाहिए। इस सिद्धांत के तहत व्यवहार पर जोर देते हुए अभिप्रेरणा पर जोर दिया जाता है।



8. स्थानापन्न / प्रतिस्थापन या समीपता का सिद्धांत

प्रवर्तक:- एडविन गुथरी

यह सिद्धांत कहता है कि शिक्षक को उत्तेजना और अनुक्रिया के बीच अधिकतम साहचर्य स्थापित करना चाहिए ताकि अधिगम की प्रक्रिया को और अधिक प्रभावशाली बनाया जा सके।


9. अव्यक्त अधिगम

अन्य नाम:- चिह्न आकार अधिगम, चिह्न पूर्णाकारवाद संभावना सिद्धांत, प्रतीक अधिगम, अप्रकट अधिगम

प्रवर्तक:- एडवर्ड टोलमैन

चूहा पर प्रयोग

यह सिद्धांत कहता है कि सीखना संज्ञानात्मक मानचित्र बनाना है। साथ ही यह भी कहता है कि अध्यापक को चाहिए कि वह उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए इनाम व दंड का प्रयोग करे। उद्देश्य प्राप्त करने का अर्थ है शिक्षा के  उद्देश्य प्राप्त करना। बच्चे को सिखाना। इसके लिए अध्यापक इनाम व दंड का प्रयोग कर सकता है।


10. अन्वेषण का सिद्धान्त

प्रवर्तक:- जेराम एस बू्रनर

यह सिद्धांत कहता है कि शिक्षक द्वारा बच्चों में अधिगम के प्रति रुझान पैदा करना चाहिए। इसके लिए विषय वस्तु को क्रमबद्ध रूप से प्रभावी तरीके से बच्चों के सामने प्रस्तुत करना चाहिए।



11. शाब्दिक अधिगम का सिद्धान्त

अन्य नाम:-प्राप्त अधिगम का सिद्धांत

प्रवर्तक:- आसुबेल

यह सिद्धांत विषय वस्तु को विद्यालयी परिस्थितियों में प्रस्तुत करने पर जोर देता है और कॉलेज स्तर के लिए अनुकूल है।


12. अधिगम सोपानिकी सिद्धान्त

प्रवर्तक:- राबर्ट गेने

इस सिद्धांत के अनुसार अधिगम की क्षमताओं के आठ प्रतिमान माने गए हैं।
1 संकेत अधिगम
2 उद्दीपक-अनुक्रिया अधिगम
3 गत्यात्मक शृंखलन
4 शाब्दिक शृंखलन
5 अपवत्र्य विभेदन
6 सम्प्रत्यय अधिगम
7 अधिनियम अधिगम
8 समस्या समाधान
यह सिद्धांत कहता है कि अधिगम प्रभाव संचय होता है और अधिगम का हर प्रकार उत्तरोत्तर सरलतम से जटिलतम अधिगम तक सोपानवत जुड़ा हुआ है। यहां सरलतम से अर्थ संकेत अधिगम और जटिलतम से अर्थ है समस्या समाधान अधिगम।



13. सामाजिक अधिगम सिद्धांत

अन्य नाम:- प्रेक्षणात्मक अधिगम

प्रवर्तक:-अल्बर्ट बंडुरा

यह सिद्धांत कहता है कि व्यक्ति सामाजिक व्यवहारों का प्रेक्षण करता है और फिर वैसा ही व्यवहार करता है। जैसे हम टीवी पर फैशन शो या विज्ञापन देखकर यथावत व्यवहार का प्रयास करते है|

Child development and pedagogy for SUPERTET
Child development and pedagogy for UPTET
CHILD DEVELOPMENT AND PEDAGOGY FOR CTET



Comments

Popular posts from this blog

SUPERTET EXAM : CDP IMPORTANT QUESTIONS

SUPERTET EXAM CDP IMPORTANT QUESTIONS

बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र के महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर
Home




SUPERTET EXAM CDP IMPORTANT QUESTIONS


प्रश्‍न 1- डिसलेक्सिया सम्बन्धित है।  उत्‍तर - पढने सम्बन्धित विकार से । 
प्रश्‍न 2- श्यामपट्ट को शिक्षण साधन सामग्री के किस समूह मे अन्तर्मुक्त किया जा सकता है।  उत्‍तर - दृश्य साधन में । 
प्रश्‍न 3- व्‍यक्तित्‍व एवं बुद्धि में वंशानुक्रम की ...................... होती है।  उत्‍तर - नाममात्र की भूमिका । 
प्रश्‍न 4- श्यामपट्ट पर लिखते समय सबसे महत्वंपूर्ण क्या है।  उत्‍तर - अच्छी लिखावट । 
प्रश्‍न 5- बुद्धि का तरल मोजेक मॉडल किसने दिया था ।  उत्‍तर - कैटल ने ।
NCERT SCIENCE FOR SUPERTET : CLICK HERE


6- बच्चों के बौद्धिक विकास की चार विशिष्ट। अवस्थाओं की पहचान किस विद्वान द्वारा की गई ।  उत्‍तर - जीन पियाजे द्वारा । 
प्रश्‍न 7- डिस्कैलकुलि‍या का संबंध है।  उत्‍तर - आंकिक अक्षमता से । 
प्रश्‍न 8- शिक्षा मे समावेशन का क्या अ‍र्थ है।   उत्‍तर - सभी विद्यार्थियों को शिक्षा की मुख्य‍ धारा प्रणाली में स्वीकारना । 
प्रश्‍न 9- आर. वी. कैटल की तरल बुद्धि तुल्य् है।  उत्‍तर - वंशानुगत…

SUPERTET : CHILD DEVELOPMENT AND PEDAGOGY IMPORTANT QUESTIONS IN HINDI

CTET 2020: IMPORTANT CDP QUESTIONS in HINDI बालविकास अन्य महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र
● मनोविज्ञान के अंतर्गत किस विचार को "प्रथम बल" की संज्ञा दी जाती है? (a) मनोवैज्ञानिक विश्लेषण (b) संज्ञानात्मकता (C) कार्यवादी (d) मानव पंरकता
उत्तर- (a) 
व्याख्या : मनोवैज्ञानिक विश्लेषण को मनोविज्ञान में प्रथम बल के नाम से जाना जाता है।
● बच्चा माँ का दूध पीकर क्या प्राप्त करता है? (a) अपनी क्षुधा शान्त करता है। (b) पौष्टिक आहार एवं निरोगता प्राप्त करता है। (c) प्यार प्राप्त करता है। (d) नींद और स्वास्थ्य प्राप्त करता है।
उत्तर- (b)
व्याख्या : माँ का दूध बच्चे के लिए सबसे अधिक पौष्टिक आहार होता है जो निरोगता देने वाला तथा माँ के हृदय का स्पंदन देता है अतः विकल्प (b) समुचित है।
● शारीरिक विकास एवं मानसिक विकास दोनों अन्योन्याश्रित होते हैं। क्योंकि- (a) शारीरिक विकास का मानसिक विकास से कोई सम्बन्ध नहीं है। (b) वय के अनुसार शारीरिक वृद्धि होती है पर मानसिक विकास प्रशिक्षण से मिलता है। (c) दोनों अलग-अलग प्रक्रिया है। (d) शारीरिक अभिवृद्धि के साथ बच्चे का मस्तिष्क भी बढ़ता है अतः उसमें वि…

IMPORTANT CDP QUESTIONS FOR CTET 2020

Important CDP Questions for CTET 2020CDP Questions for CTET,KVS,UPTET AND SUPER TET.

Welcome to SUPER TET EXAM PREPARATION POINT. Here we will discuss about Most Important CDP Questions for CTET, UPTET,KVS and SUPER TET Exams.Child Development and Pedagogy plays very crucial role in CTET and other TET Examinations that's why we've choosen some most of the times asked questions in CTET. We hope that this content will surely help you.
Child Development and Pedagogy for CTET 2020.Child Development And Pedagogy for Super TET .HOME




बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर








Important CDP QUESTIONS FOR CTET and SUPER TET EXAMNCERT SCIENCE FOR SUPERTET EXAM : CLICK HERE LATEST CURRENT AFFAIRS FOR SUPER TET EXAM बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर : CLICK HERE Join Our Telegram Channel For Regular Updates: CLICK HERE supertet.co.in